zindagi tune lahoo le ke

Posted: अक्टूबर 27, 2010 in Uncategorized

Zindagi tune lahoo le ke :

Zindagi tune lahoo le ke diya kuchh bhi nahin,
Tere daaman mein mere waaste kya kuchh bhi nahin !!

Mere in haathon ki chaaho to talaashi le lo,
Mere haathon mein lakiron ke siwa kuchh bhi nahin !!

Humne dekha hai kai aise khudaon ko yahan,
Saamne jinke wo sachmuch ka khuda kuchh bhi nahin !!

Ya khuda ab ke ye kis rang se aayi hain bahaar,
Zard hi zard hai pedon pe hara kuchh bhi nahin !!

Dil bhi ik zid pe ada hani kisi bachche ki tarah,
Ya to sab kuchh hi ise chaahiye ya kuch bhi nahin !!

: NM

ज़िन्दगी तुने लहू ले के:

ज़िन्दगी तुने लहू ले के दिया कुछ भी नहीं,
तेरे दामन में मेरे वास्ते क्या कुछ भी नहीं !!

मेरे इन हाथों की चाहों तो तलाशी ले लो,
मेरे हाथों में लकीरों के सिवा कुछ भी नहीं !!

हमने देखा हैं कई ऐसे खुदाओं को यहाँ,
सामने जिनके वो सचमुच का खुदा कुछ भी नहीं !!

या खुदा अब के ये किस रंग से आई हैं बहार,
ज़र्द ही ज़र्द हैं पेड़ों पे हरा कुछ भी नहीं !!

दिल भी इक ज़िद पे अड़ा हैं किसी बच्चे की तरह,
या तो सब कुछ ही इसे चाहिए या कुछ भी नहीं !!

: NM

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s