Badla na apne aap ko

Posted: दिसम्बर 31, 2010 in Uncategorized

बदला न अपने आप को जो थे वही रहें,
मिलते रहे सभी से मगर अजनबी रहें,
दुनिया न जीत पाओ तो हारो न खुद को तुम,
थोड़ी बहुत तो जहन में नाराजगी रहें ,
अपनी तरह सा दिल को किसी की तलाश थी ,
हम जिसके भी करीब रहें दूर ही रहें,
गुजरो जो बाग़ से तो दुआ मांगते चलो,
जिसमे खिले हैं फूल वो डाली हरी रहें !!

: NM (Not Mine)

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s