Aaj kal hum

Posted: जुलाई 29, 2011 in Uncategorized

आज-कल हम,
क्यों हैं गुम-सुम,
क्यों हमारी सांसें उलझी,
क्यों ख़ामोशी छा रही हैं,
थक गयी हैं चलते-चलते,
ये धड़कनें भी साथ मेरे,
कि धड़कनें भी बावरी हैं,
हमसे हर-पल कह रही हैं,
अब कहीं तू भी जाकर सो जा,
नींद हमको भी आ रही हैं !! -ABZH

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s