Wo humsafar tha

Posted: अक्टूबर 9, 2011 in Uncategorized

अदावतें थी..तगाफुल था…
रंजिशें थी मगर…

अदावतें थी..तगाफुल था…
रंजिशें थी मगर…

बिछड़ने वाले मैं सब कुछ था बेवफाई न थी…
बिछड़ने वाले मैं सब कुछ था बेवफाई न थी…

के धुप-छाँव का…
के धुप-छाँव का आलम रहा जुदाई न थी…
वो हमसफ़र था…वो हमसफ़र था…

तर्क-ए-तालुकात पे…रोया न तू न मैं…
लेकिन ये क्या के चैन से…सोया तू न मैं..

वो हमसफ़र था..वो हमसफ़र था..
वो हमसफ़र था मगर उस से हमनवाई न थी…
वो हमसफ़र था मगर उस से हमनवाई न थी…

के धुप-छाँव का…
के धुप-छाँव का आलम रहा जुदाई न थी…
वो हमसफ़र था…वो हमसफ़र था…

-नसीर तुराबी

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s