Panchhi ud jaa dur gagan me

Posted: दिसम्बर 18, 2011 in Uncategorized

ऐ पँछी उड़ जा दूर गगन में,
इस धरती पर बसेरा तू न कर !!

स्वार्थ समंदर में डूबी दुनिया,
तुझे पिजड़े में रख लेगी,
दो-चार रोज तेरी भूख मिटाकर,
ये तेरी नीलामी कर देगी,
लेकर तेरी प्राणों की आहुति,
जिब्ह्वा की तृप्ति कर लेगी !!

ऐ पँछी उड़ जा दूर गगन में,
बादलों से तूफानों से तू न डर !!

हौसले की चिंगारी तेरे परो में,
हैं अजेय अभिलाषा तेरे नयन में,
तू किरणों से उज्जवलित उरो में,
तू साहस का हैं सन्देश पवन में,
अब उदाहरण बन तू घरो-घरो में,
चल स्वतंत्र हैं तू उड़ निडर गगन में !!

ऐ पँछी उड़ जा दूर गगन में,
इस धरती पर बसेरा तू न कर !!

-ABZH

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s