Qaasid Ke Aate Aate

Posted: अप्रैल 17, 2012 in Uncategorized

कासिद के आते-आते, ख़त एक और लिख रखूँ,
मैं जानता हूँ जो, वो लिखेंगे जवाब में !!

कब से हूँ, क्या बताऊँ, जहां-ने-खराब में,
शब् हाय, हिज्र को भी रखूँ, घर हिसाब में !!

मुझ तक करम की बज़्म में, आता था दौर-ए-जान,
साकी ने कुछ मिला न दिया हो, शराब में !!

ताहिर न इंतज़ार में, नींद आये उम्र भर,
आने का एहद कर गए, आये जो ख्वाब में !!

ग़ालिब छुटी शराब, पर अब भी कभी-कभी,
पीता हूँ रोज़े अब्र-ओ-शब्बे, महताब में !!

–मिर्ज़ा ग़ालिब

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s