Main Aur Meri Tanhayee

Posted: नवम्बर 11, 2012 in Uncategorized
आवारा हैं गलियों में, मैं और मेरी तन्हाई,
जाएँ तो कहाँ जाएँ, हर मोड़ पर रुसवाई,
मैं और मेरी तन्हाई, मैं और मेरी तन्हाई !!
 
ये फूल से चेहरे हैं, हँसते हुए गुलदस्ते,
कोई भी नहीं अपना, बेगाने हैं सब रस्ते,
राहें भी तमाशाई, राहें भी तमाशाई,
मैं और मेरी तन्हाई, मैं और मेरी तन्हाई !!
 
अरमान सुलगते हैं, सीने में चिता जैसे,
कातिल नज़र आती हैं, दुनिया के हवा जैसे,
रोती हैं मेरे दिल पर, बजती हुयी शेहनाई,
मैं और मेरी तन्हाई, मैं और मेरी तन्हाई !!
 
आकाश के माथे पर, तारों का चरागम हैं,
पहलूँ में मगर मेरे, ज़ख्मों का गुलिस्तान हैं,
आँखों से लहू टपका, दामन में बहार आयी,
मैं और मेरी तन्हाई, मैं और मेरी तन्हाई !!
 
– अली सरदार जाफरी 

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s