Shola Hoon

Posted: अक्टूबर 12, 2015 in Uncategorized

शोला हूँ भड़कने की गुजारिश नहीं करता,
सच मुँह से निकल जाता हैं कोशिश नहीं करता ।

गिरती हुई दीवार का हम-दर्द हूँ लेकिन,
चढ़ते हुए सूरज की परस्तिश नहीं करता ।

माथे के पसीने की महक आये न जिस से,
वो खून मेरे जिस्म में गर्दिश नहीं करता ।

हमदर्दी-ए-एहबाब से डरता हूँ ‘मुजफ्फर’,
मैं ज़ख्म तो रखता हूँ नुमाइश नहीं करता ।

-मुजफ्फर वारसी

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s