Wazood Badla Hain

Posted: अगस्त 30, 2016 in Uncategorized

वज़ूद बदला हैं,
पहचान बदला हैं,
कोई इंसान कहता हैं,
भगवान बदला हैं ।

तबाही अच्छी-खासी हैं,
अक़्सर नाम बदलती हैं,
अंजाम एक से हैं सब,
पर इंसान बदलती हैं ।

यकीन बदला हैं,
इन्साफ बदला हैं,
कोई इल्ज़ाम कहता हैं,
तमाम बदला हैं ।

ज़ुबानें उठती-गिरती हैं,
जो पहचान बदलती हैं,
इल्ज़ाम एक से हैं सब,
पर इंसान बदलती हैं ।

कारवाँ बदला हैं,
निशान बदला हैं,
कोई पासबान कहता हैं,
कहकशान बदला हैं ।

मुश्किलें आती-जाती हैं,
अक़्सर राह बदलती हैं,
मक़ाम एक से हैं सब,
पर इंसान बदलती हैं ।

सवाल बदला हैं,
जवाब बदला हैं,
कोई इम्तिहान कहता हैं,
फरमान बदला हैं ।

नफ़रतें बढ़ती-घटती हैं,
दैर-ओ-हरम बदलती हैं,
इंतजाम एक से हैं सब,
पर इंसान बदलती हैं ।

दस्तूर बदला हैं,
दास्तान बदला हैं,
कोई बागवान कहता हैं,
गुलिस्तान बदला हैं ।

नक़ाबें मिलती-जुलती हैं,
चेहरों के रंग बदलती हैं,
बेज़ुबान एक से हैं सब,
पर इंसान बदलती हैं । -चंद्र शेखर तिवारी

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s